AUTHOR

Rohit Sharma Biography in Hindi | Rohit Sharma Biography

Rohit Sharma Biography in Hindi | Rohit Sharma Biography 

Rohit Sharma Biography in Hindi | Rohit Sharma Biography
Rohit Sharma Biography in Hindi | Rohit Sharma Biography 
Rohit Sharma Biography
सुभाष और बल्लेबाजी के लिए जाना जाता है और अभी हाल ही में उन्होंने श्रीलंका के ख़िलाफ़ दोहरा शतक मारकर तीन दोहरा शतक जड़ने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बन गए आज के समय में रोहित शर्मा अपने

क्रिकेटिंग करियर में बुलंदियों पर हैं और एक के बाद एक नया कीर्तिमान स्थापित करते जा रहे हैं लेकिन क्या आपको पता है रोहित के लाइफ में एक ऐसा समय भी था कि पैसों की कमी की वजह से उन्हें अपने माता पिता

से दूर रहना पड़ा स्कूल में फीस भरने के लिए उनके पास पर्याप्त पैसे भी नहीं थी लेकिन अपनी मेहनत और लगन के बलबूते उन्होंने पूरी दुनिया में नाम कमाया तो चलिए दोस्तों रोहित शर्मा के संघर्ष भरे सफर को शुरु से

जानते हैं रोहित शर्मा का जन्म तीस अप्रैल को नागपुर के बाद और धान की जगह पर हुआ था उनकी माँ का नाम कोरी माँ और पिता का नाम गुरुनाथ शर्मा एक ट्रांसपोर्ट फर्म की देखभाल करते थे घर की आर्थिक स्थिती बहुत

अच्छी न होने की वजह से रोहित का ज्यादातर बचपन अपने दादा दादी के वहाँ भी था जो कि बोरीवली में रहते थे और रोहित अपनी मम्मी पापा मिलने के लिए हफ्ते में कभी कबार दो बोलियाँ जाया करते थे हालांकि रोहित

 को क्रिकेट का शौक बचपन से ही था और स्ट्रोक को देखते हुए उनके अंकल ने उनकी आर्थिक मदद की जिससे की उन्नीस सौ निन्यानवें रोहित क्रिकेट अकैडमी ज्वॉइन किया जहाँ पर रोहित के दोस्त थे दिनेश जिन्होंने क्रिकेट के प्रति रोहित का जबरदस्त लगाव देखा है और तभी उन्होंने रोहित को अपनी स्कूल चेंज करने की

सलाह दी स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल में क्रिकेट की अच्छी सुविधा थी और क्रिकेटिंग करियर के पॉइंट ऑफ क्यूँ से देखा जाए तो यह स्कूल उस समय के बेस्ट स्कूल से एक था हालांकि रोहित यहाँ की फी अफोर्ड कर सकती थी और इन्हीं परेशानियों को देखते हुए दिनेश ने उनकी सहायता की और रोहित को स्कॉलर से दिलाई

जिससे कि अगले चार सालों तक उनकी सीमा हो गयी इस स्कूल में पढ़ाई के साथ साथ रोहित एक खेल में काफी निखार आया और दूसरे इंट्रेस्टिंग बात बताऊँ रोहित शर्मा अपनी शुरुआती समय में आप स्पिनर हुआ

करते थे लेकिन दिनेश लड़ने उनके टैलेंट को पहचानते हुए आठ नंबर पर खेलने की जाए उसे अपनी कर पाई और इस तरह से रोहित ने बतौर ओपनर अपने स्कूल क्रिकेट टूर्नामेंट में शतक जड़ा स्कूल के चार सालों में

रोहित ने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर क्रिकेट की सभी पार्टियों को सीखा उनकी मेहनत उनकी बैटिंग के साथ रखने लगी थी अब बारी थी उनके डोमेस्टिक करियर की शुरुआत की रोहित शर्मा ने दो हज़ार पांच के देवधर

ट्रॉफी में वेस्ट ज़ोन की तरफ से खेलते हुए अपने डोमेस्टिक करियर की शुरुआत की और उन्होंने अपना पहला मैच सेंट जॉन के ख़िलाफ़ ग्वालियर में खेला था लेकिन उनकी पहचान लोगों के बीच तब हुई जब नॉर्थ ज़ोन के ख़िलाफ़ उन्होंने गेंद पर शानदार रन की पारी खेली Rohit Sharma Biography 

Rohit Sharma Biography in Hindi | Rohit Sharma Biography
Rohit Sharma Biography in Hindi | Rohit Sharma Biography 

Rohit Sharma Biography


Post a comment

0 Comments