AUTHOR

Feroz Khan Biography | Feroz Khan - Biography in Hindi | फ़िरोज़ खान की जीव | Feroz Khan

Feroz Khan Biography | Feroz Khan - Biography in Hindi | फ़िरोज़ खान की जीव | Feroz Khan 


Feroz Khan Biography | Feroz Khan - Biography in Hindi | फ़िरोज़ खान की जीव | Feroz Khan
Feroz Khan Biography | Feroz Khan - Biography in Hindi | फ़िरोज़ खान की जीव | Feroz Khan 

तेरा हॉलीवुड का स्टाइल था तो दूसरी तरफ भारतीय सिनेमा के जज्बा बढ़ गई उन्होंने हिंदी फिल्मों की हिरोइन का रंग रूप बदल के रख दिया और हीरों को भी इतना स्टाइलिश बनाया ये सबके होश उड़ गए आप कर रहे हैं

हम महान फिल्ममेकर आकर फिरोजखान की यह एक दमण में है जिसके ही सी सूरज के केवल मिशेल माय है ये बन्दे हैं जिसके लिए इसे सूरज के खैरा अनुसार मागणी हैं रोशन सात जन्म पच्चीस सितंबर में हुआ उनके पिता

 सादिक अली खां नूरी अफगानिस्तान के पठान थे और वह ईरान से थी रोशन साहब की पढ़ाई लिखाई हुई बैंको के विश्व फुटबॉल स्कूल में और सेंट जॉन हाई स्कूल बैंगलोर में इनके भाइयों के नाम हैं संजय ख़ान सुरक्षा लिफान शरीर खा़न और अब वह था उनकी बहन का नाम है सुशी दिशा नंबर और दिलशाद बेगम से इनके दो भाई

फिल्मों से ताल्लुक रखते हैं एक है संजय चौहान और दूसरे हैं अक्सर इन स्टाइलबाजी की वजह से उन्हें स्कूल से बाहर कर दिया जाता था और ये सब समझ गए थे कि बचपन से ही इस लड़के में जो स्टाइल है उस सिल्वर

स्क्रीन पर कम कर देगा पढ़ाई लिखाई खत्म करने के बाद यह मुंबई आ गए इन्हें छोटा सा रोल मिला फ़िल्म दिल्ली में बारह साल तक कोई नहीं जानता था कि साठ सत्तर और अस्सी के दशक में जैसे बेहतरी नहीं बल्कि

डाइरेक्ट प्रदर्शन में भी नजर आएँगे हालांकि शुरुआती फ़िल्म में ज़रा कम बजट की रही थी इसलिए उनके किरदार की तरह थोड़े छोटे रहे अपनी बीमार माँ को मिलने जा रहा है और मैं एकदम से गिर था उन्होंने हर तरह की फिल्मों का सहारा लिया चाहें वो फॅमिली से उसकी जांघ से सिमी गरेवाल के साथ राजन को स्टोर इंडिया

उन्नीस सौ पैंसठ में फ़िल्म सामने आई जिसने कमाल दिया यह फ़िल्म फणी मजुमदार ने बनाई थी गाना ऊंचे लोग जहाँ पे उनके सामने दो दिग्गज कलाकार थे राजकुमार और दादा मुनि बोले तो अशोक कुमार इस फ़िल्म

 में इन दोनों कलाकारों की सात सुरों स्थान की एक टीम को बहुत सराहा गया इसके बाद भी यह कुछ कम बजट की फिल्मों में काम शुरू करते रहें जैसे कि सैमसन एक सपेरा एक लुटेरा चार दरवेश वगैरह वगैरह क्या बताओ

 किसी की शादी जब संन्यास का जलवा देखा मेरी जिंदगी ख़राब होगी मीन ख़राब ना शादी तापमान एक रात पहले तक खुद हर पत्ती हर गली में बताया तो दिल और Feroz Khan Biography 
Feroz Khan 

Post a comment

0 Comments