AUTHOR

Dara Singh Biography | Dara singh | Dara singh history | Dara singh Age

Dara Singh Biography | Dara singh | Dara singh history | Dara singh Age

Dara Singh Biography | Dara singh | Dara singh history | Dara singh history in hindi
Dara Singh Biography | Dara singh | Dara singh history | Dara singh history in hindi 
Dara Singh Biography
देने वाला था राज्य जमुनी नवंबर में हुआ अमृतसर जिले के धरमूचक शहर में बचपन से ही धारा सिंह जी को कुश्ती का शौक था  थोड़े छे गाना सिंह साहब छह फुट दो इंच लंबे एक सौ लोग बहार और तिरपन इंच का सीना

 लिए इस जबर्दस्त पहलवान रहे पर उनकी शुरुआत कैसे हुई ज़रा उसकी तरफ रुख करते हैं दरअसल शाह के चाचा जान कई मर्तबा सिंगापुर जाया करते थे एक बार वह गांव लौटकर आए और धारासिंह साहब ने कहा कि

 मुझे भी आप सिंगापुर ले चलें चाचा ने पहले तो मना कर या पर फेर गांव की धूपर मशक्कत से उनका दिल बूझ गया और फिर चचाजान अपने साथ धारासिंह को भी ले गई संख्या को अपनाना सिंगापुर गए तो रोटी कमाने के

थे पर वहाँ पर कुछ प्रवासी भारतीयों ने इनकी मदद की इनका हौसला बढ़ाया और कहा कि तुम क्यों नहीं कुश्ती की तयारी करते है तुम्हें ईश्वर ने अच्छा खासा दिल डाल दिया है दरअसल साहब ने ज़रा मुखालफत की और

कहा मैं तो यह रोटी कमाने आया हूँ फिर भी लोग जिद करते रहे और धीरे धीरे दरअसल साहब ने कुश्ती के जरिये ही रोज़ी रोटी कमानी शुरू कर दी है सिंगापुर में धीरे धीरे और अधिक अनुमानों का साथ ही मिलने लगा

 ऐसे में उनकी रसलिंग के एक सेक्रेटरी ने कहा कि चलो फ़िल्म देख कर आते हैं तो धारासिंह ने मना कर दिया और बताया कि यह सुबह चार बजे उठते है फिर धन बैठ करते हैं उसके बाद खाना पीना होता है फिर बाजार जाते हैं दोपहर का खाना बारह बजे तक खा कर दोपहर तीन बजे तक सोते है फिर उठने के बाद दोबारा वर्ष

होती है पैमानों के साथ कुछ भी होती है कहाँ समय है में देखने का तब इन्हें ज़रा भी अंदाजा नहीं था सिर्फ फ़िल्म देखने की बात नहीं है यह एक दिन फिल्मों में काम भी करेंगे क्या आप अपने तमाशा के लिए एक आदमी की

जान लें कि अंग्रेजी फ़िल्म हर पुलिस ने धारा साहब को हाथ से मुतासिर किया और तब तक इससे पहले सिंगापुर में ही कुछ भी नहीं कर रहे थे बल्कि हिंदुस्तान के अलग अलग शहरों में यह पुष्टि के लिए जाया करते थे ऐसे में

एक रिडक्शन से मजाक भी किया था बाद मद्रास है जहाँ पर सामने कह दिया था कि अगर तुम तुम हीरो बना दूंगा दारासिंह साहब थोड़े से संजीदा हुए थे पर फिर समझ गए हैं सिर्फ मजाक है और असल में जब प्रदर्शन के

 पास आया और कहा कि मेरी फ़िल्म में काम प्रो सुधा सिंह इंकार करते रहे आखिर में जब यह तय हो गया कि बाकी संगीत के साथ ही फ़िल्म बनाई जाएगी तब धारासिंह ने हाँ कह दी पर सवाल यह भी पूछा कि मैं कुछ करूँगा उस फ़िल्म में एक्टिंग औरDara Singh Biography

Post a comment

0 Comments