AUTHOR

Anupam Kher Biography | Anupam kher biography | Autobiography of anupam kher

Anupam Kher Biography | Anupam kher biography|Autobiography of anupam kher

Anupam Kher Biography | Anupam kher biography | Autobiography of anupam kher
Anupam Kher Biography | Anupam kher biography | Autobiography of anupam kher 

सभी में उन्हें महारत हासिल है हम बात कर रहे हैं महान अभिनेता अनुपम खेर कि निर्माण की बात नहीं होती है तो आपको देखती देखती थी हाँ क्या बात कर रही हूँ मैं तो आपकी नैनो की शिकार हो गयी मुझे देखना बंद हो

गया है तुम मेरे हो लेकिन नहीं तो मेरेको नहीं तो मेरे अनुपम खेर का जन्म शिमला में हुआ तारीख सात मार्च सन् पचपन इनके पिता पुष्कर नाथ किए और इसके बाद में क्लब है और उनकी माँ जिनका नाम दुलारी रहा वो घर

की देखरेख कि आप प्रतिलिपि मूवी वैरी गुड लिए अनुपम खेर एक संयुक्त परिवार में रहा करते थे चाचा चाची या फिर सारे संस कुल मिलाकर ग्यारह सदस्य थे इनके परिवार में उनके पिता को मात्र नब्बे रुपये मिला करते थे

प्रतिभा चुकी उनके पिता की कमाई ज्यादा अच्छी नहीं थी और सदस्य परिवार में बढ़ते जा रहे थे इसलिए उनकी माँ ने अपने स्वर्ण आभूषण बेचती हैं परिवार में कितने ही मफलर से क्यों न रही हो पर अनुपम खेर को उनका

जेबखर्च मिल जाया करता था और वह था दस पैसे प्रतिमा तुम्हे तो पता ही होगा कि एलेक्स मीटिंग में का खिलाना हमला हुआ था जिसमें बस अपना बच्चा खो बैठे बहुत कम थे उस समय बहुत था सपने देखने के लिए और सपनों Anupam Kher Biography

Anupam Kher Biography | Anupam kher biography | Autobiography of anupam kher
Anupam Kher Biography | Anupam kher biography | Autobiography of anupam kher 

को जगाने के लिए उनकी जिंदगी में दो फ़िल्म जाय एक रही उपकार और दूसरी दिल एक मंदिर है पांचवी कक्षा
 तक अनुपम खेर लेडी इरविन स्कूल में पढ़ाई और बचपन से ही ये अपने टीचर की नकल उतारा करते थे हाँ

समझ गया नाचनेवाले गाने वाले मालिश करनेवाले दबाने वाले बाल बनाने वाले बाल काटने वाले कपड़े पहनाने वाले एक कपड़े उतारने वाले अरे बस चुटकी भर जाता हूँ और अब इंतज़ार कर के आता हूँ कॉलेज के दिनों में

अनुपम खेर का व्यक्तित्व सबसे जादू कर देता था क्योंकि ग्रेजुएशन मिस्ट्री में हुई नैशनल स्कूल ऑफ ड्रामा जाने से पहले अनुपम खेर ने अपनी माँ के मंदिर से पैसे चुराए थे अरे ये क्या कह रहे हो तुम ने सुप्रीम कोर्ट के जज

कितना फैसला सुना दिया फ़ूड वो मेरा स्कूल और कॉलेज के दिनों में ही उन्हें एक्टिंग का शौक चढ़ गया था और तभी उन्होंने अख़बार में एक विज्ञापन देखा जिसमें एक्टिंग कोर्स का जिक्र था और इस चीज़ के लिए उन्हें सौ

रुपयों की जरूरत थी पर यदि मान भी अपने पिता के सामने नहीं रख सकते थे और बस अनुभव खेलने मंदिर से पैसे चुराने का फैसला किया और अपने से कहा कि मैं तो भगवान विष्णु की नकल कर रहा हूँ वह माखन चुराते थे और मैंAnupam Kher Biography

Anupam Kher Biography

Post a comment

0 Comments