AUTHOR

Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography


Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography
Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography 

ये दास्तां है वो झील जाएगा अजीबोगरीब उतार चढ़ाव के बाद इस आदमी की जिंदगी अपने आप में एक बहुत ही अनोखी कहानी बन गयी अपन कौन कौन अरे बोलो कौन कौन नाम संजय बलराज दत्त शकल देख के ही बारह बज गया क्या जन्म उनतीस जुलाई सन् उन्नीस सौ उनसठ में हुआ पिता सुनील दत्त और माँ नरगिस था ये दोनों ही अपने दौर के बड़े अनोखे सुपरस्टार्स रहे संजय दत्त को बचपन में ही बोर्डिंग स्कूल में दिया गया था जहाँ पर

उन्होंने आत्मनिर्भर होना सीखा और जब भी कभी वापस आते अपने घर तो अक्सर माँ बाप से बहस हो जाती कि मुझे क्यों रोकते टोकते हों ये पहले चेन्नई में बगावत के अब सब काम जा रहा है की पकाने से गाड़ी चलाने तक

खाना बनाने से झाड़ू मारने तक कपड़ा धोने से बर्तन मांजने तक आये थे फ़िल्म रेशमा और शेरा में साल था इससे पहले संजीदा फ़िल्म इंडस्ट्री में बतौर एक्टर कदम रखते उनकी माँ नरगिस दत्त को कैंसर हो गया एक तरफ

फ़िल्म रॉकी का निर्माण चल रहा था तो दूसरी तरफ नर के साथ जो कि रॉ की तरह मजबूत थी बिगड़ती जा रही थी न की जीत का इलाज हो रहा था अमेरिका में संयत रहने की शूटिंग में व्यस्त थे और फिर वह दिन आया जब फ़िल्म रॉकी रिलीज हुई पिक्चर हॉल हाउसफुल था सिर्फ पे किसी खाली थी क्योंकि दिल्ली से कुछ दिन पहले ही

 नरगिस तत्काळ देहांत हो गया था यह आप उनका मूड इतना नरम ने क्या किया कुत्ते का दुमका मार्ग पटाखे ले जाये डॉक्टर का है टोकन का इतना जल्दी नहीं ले वाला उसके बाद संजय दत्त को पकड़ लिया ड्रग्स नहीं हेरोइन हशीश कोकेन हर तरह की ड्रग्स जो मौजूद थीं उस वक्त सबका संजय दत्त ने सेवन किया चाहे गोलियां रहे की

की नाक के जरिए कुकिंग सुनना या फिर इंजेक्शन लगा ना ऐसा माना गया कि नरगिस जानती थी उनका बेटा ड्रग्स में आगे बढ़ता जा रहा है पर इससे पहले कुछ किया जाता संजय दत्त बहुत आगे निकल गए ड्रग्स की दुनिया में काट ओर से जताए था लेकिन सदन में मिलकर खुद का तापमान क्या है और एक दिन संजय दत्त अपने वापस

आये सो गए जब सुबह उठे तो ये गए अपने नौकर के पास कहने लगे मुझे खाना तो नौकर रोने लगा संजू बाबा ने पूछा क्यों लोगों ने कहा कि बाबा आप दो दिनों के बाद उठे दो दिन तक लगातार सोते रहे पूरा परिवार परेशान था और तब सद्भाव का एहसास हुआ कि अब रवि आप सेंटर में जाना ही होगा संजू बाबा जरूर एक बड़े ही अनोखे हीरो बनके निकल कर आए एक ड्रॉ रही कि विधाता हर फ़िल्म में संजय का काम देखते ही बनता था लक्ष्मी दिए बिना लक्ष्मण रेखा के आगे पाओ डाला

Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography
Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography 
Sanjay Dutt Biography 
Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography
Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography
Sanjay Dutt Biography 
Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography
Sanjay Dutt Biography in Hindi | Sanjay Dutt Biography 
Sanjay Dutt Biography 

Post a comment

0 Comments