AUTHOR

नंदिता दास की जीवनी | Nandita Das - Biography in Hindi | Nandita Das Heigaht,Weight, Age, Husband, Biography

नंदिता दास की जीवनी | Nandita Das - Biography in Hindi | Nandita Das Height, Weight, Age, Husband, Biography 

नंदिता दास की जीवनी | Nandita Das - Biography in Hindi | Nandita Das Heigaht,Weight, Age, Husband, Biography
नंदिता दास की जीवनी | Nandita Das - Biography in Hindi | Nandita Das Heigaht,Weight, Age, Husband, Biography 

ये कहानी है कैसे अभिनेत्री की जिसने ज़रा हटके फिल्मों में काम किया पढ़ाई लिखाई भी कुछ ऐसा ना क्योंकि जिससे समाज में योगदान दे सकें नाम है उनका नंदिता दास जन्म हुआ सात नवम्बर सन् उन्नीस सौ में  क्या हालाँकि उनका जन्म मुंबई में हुआ लेकिन ज्यादातर बचपन का भी था दिल्ली में दिल्ली के ही सरदार पटेल

विद्यालय में इनकी पढ़ाई लिखाई हुई उसके बाद दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरिंडा हाउस कॉलेज से उन्होंने ज्योग्राफी में ग्रेजुएशन की दिल्ली में ही दिल्ली स्कूल ऑफ सोशल बहुत में उन्होंने मास्टर्स डिग्री हासिल की बाकी या अभिनेत्री भी हैं फ़िल्म डायरेक्टर भी और लेकिन काफी स्प्ब हाँ मैने गलत दीपा मेहता और मन ही करता

दरअसल यह रंग मन से जुड़ी रहीं दिल्ली के एक ग्रुप जन नाट्य मंच के साथ इनका गहरा संबंध रहा उन्होंने कुछ वक्त के लिए ऋषि वैली स्कूल में पढ़ाया भी सुनने सौ छियानवे फ़िल्म जिसका नाम था फायर जिसमें बहुत बड़ा विवाद खड़ा कर दिया था उसमें समलैंगिकता के बारे में बात की गई थी इस फ़िल्म में इनके साथ ही शबाना आजमी नाम तथा सुबह की बड़ी दिलेर अभिनेत्री आई उन्होंने उसके दादा ये अपना स्तर तक मनवा लिया था

Nandita Das - Biography in Hindi 

नंदिता दास की जीवनी | Nandita Das - Biography in Hindi | Nandita Das Heigaht,Weight, Age, Husband, Biography
नंदिता दास की जीवनी | Nandita Das - Biography in Hindi | Nandita Das Heigaht,Weight, Age, Husband, Biography 

हालांकि जगमोहन मूंदड़ा की फ़िल्म बवंडर में इनका अभिनय देखते ही बनता जो की एक सत्य घटना पर आधारित थी बारात कार पीड़ित एक महिला किस तरह से कोर्ट का सामना करती है उन जज्बातों को नंदिता दास ने पर्दे पर बखूबी उतारा था उन्होंने अलग अलग भाषाओं की फिल्मों में काम किया है अंग्रेजी हिन्दी बंगाली

 मलयालम तमिल तेलुगु उर्दू मराठी उड़िया एवं कानड़ा रन से भी रहीं सिनेमा में भी इनका योगदान वाकई सराहनीय है एक नाटक रहा बीट्वीन द लाइंस जिसकी ये सहलेखिका रही सन् दो हज़ार अठारह में उन्होंने ऐसी फ़िल्म बनाई जिसमें सबका मन मोह लिया यह फ़िल्म उर्दू अफसाना यार सादत हसन मंटो के जीवन पर

नंदिता दास की जीवनी
आधारित थी जिसमें मुख्य भूमिका निभाई थी मेरे बाजु तीन सदी की नहीं है चुकी ये मास्टर्स इन सोशल वर्क है उन्होंने सामाजिक योगदान मैं भी अपने कदम पीछे हटाए बच्चों के अधिकारों के लिए उन्होंने काम किया एचआईवी और एड्स किया इसके लिए उन्होंने काम किया ये बात भी गौर करने लायक है ये चिल्ड्रेन्स

Post a comment

0 Comments