AUTHOR

Laxmikant Berde Biography | Laxmikant Berde | Laxmikant Berde Biography in hindi


Laxmikant Berde Biography | Laxmikant Berde | Laxmikant Berde Biography in hindi
Laxmikant Berde Biography | Laxmikant Berde | Laxmikant Berde Biography in hindi

अगर आप प्यार से सब ने बुलाया लक्ष्य कहके हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री ने माना कि प्रेम का सबसे गहरा दोस्त मनोहार और दुनिया में जाना है लक्ष्य कान्त बेटे के नाम से अरे हुआ बहुत कुछ हुआ एक दोस्त था टूट गए इस

बज गए कई तोडूंगा एक पसली की हड्डी टूट गई एक दो महीने अहसास हो या ऐसा दो या दो बड़े डबल रोटी हो गया वह है ये तो थोड़ा बच गया वह खाना बचाने के लिए जन्म तीन नवंबर सन् में हुआ लक्ष्मीकांत शुरू से ही अभिनय में दिलचस्पी रखा करते थे और अक्सर स्टेज के ड्रामाज में नजर आते और साथ ही मुंबई शहर के

मशहूर गणपति उत्सव में यह खुलके हिस्सा लिया करते अरे मर चुका है डायरेक्शन आए गणपति उत्सव के दौरान ही कांग्रेस वैश्य समाज गिरगाव पर आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने अभिनय किया और कई बार उन्हें अवॉर्ड से भी नवाजा गया चाहे स्कूल के राम आज रहे या फिर कॉलेज के हिंदी मोडका तोड़ का हम मराठी

चैनल है हमारे डेटा मराठी भगवान वह किसी काम का तो फटाफट धीरे धीरे घड़ी आई जब लक्ष्मीकांत बेर्डे ने मुंबई मराठी साहित्य संघ के साथ अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की हम चाहती तूफानी चावल में एम बी बी एस डालो पढ़ायाउन्होंने जबरदस्त काम किया इनकी कॉमेडी को ख़ूब सराहा गया तब भी कोई अंदाज़ा नहीं लगा

पाया था कि आगे जाकर लक्ष्मीकांत बेर्डे एक जबरदस्त नाम कमाएंगे एक ऐसी छाप छोड़ जाएंगे जिसका कोई सानी ना होगा अलाउड भी नहीं करेगा शुरुआती दौर में मराठी नाटकों में मराठी फिल्मों में नजर जरूर आए

इनकी पहली मराठी फ़िल्म रही लेक चालली ससरला कहा था घर लाए तो कैसे मैं सिटी आता फक्त फॉर्मॅलिटी टिप्पणियां बंद की छुट्टी पर मनाली आता नौकरी और दूरदर्शन का मराठी कार्यक्रम में भी नजर आए कार्यक्रम

था गजरा जिसमें उन्होंने ऐसी मिमिक्री दिखाई कि सब इनके दीवाने हो गए उन्नीस सौ पचासी में महेश कोठारे की एक फ़िल्म आई जिसमें उन्होंने एक सहायक भूमिका निभाई थी फैन थी दे दनादन और फिर जबरदस्त अभिनेता अशोक सराफ के साथ यह नज़र आए धूम धड़ाका में दोनों ही फ़िल्म जबरदस्त चलीं लक्ष्मीकांत बेर्डे की कॉमेडी

सभी के दिल को भाग आई सुस्ती के उलटापालट जारी रहना मुझे मेरे परिवर्तन के रहने वाले समुद्र अकेला रहना चाहिए लक्ष्मीकांत बेर्डे अशोक सराफ की जोड़ी को इतना सारा गया कि अक्सर इन्हें अशोक लक्ष्य की जोड़ी बुलाया जाता था ये भी कहा जाता था
Laxmikant Berde Biography

Post a comment

0 Comments