AUTHOR

तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी

तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी 

तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी
तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी 
एडोल्फ़ हिटलर जीवनी 
डांस यह सच था जिसकी वजह से दुनिया को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाले वर्ल्ड वार शुरू हुआ तानाशाह हिटलर के नाम का खौफ इतना ज्यादा था किला केवल जर्मनी के लोग बल्कि पूरी दुनिया ही उसके नाम से जाती थी लेकिन दोस्तों आज के समय में जिले से पूरी दुनिया नफ़रत करती है वह अपने समय में बहुत ही प्रभावशाली

नेता था उसके बीच में इतना दर्द हुआ करता था कि वह बड़ी ही आसानी से लोगों को इम्प्रेस कर लेता और यही वजह है पानी की इतनी बड़ी नाजी सेना बनाने में भी कामयाब रहा और दोस्तों एक समय पर पादरी बनने की चाह रखने वाला हिटलर कैसे बना दुनिया का सबसे बड़ा तानाशाह चले जाते है तो सो कहानी की शुरुआत होती

 है बीस अप्रैल से जब ऑस्ट्रेलिया के दोनों इन नाम की जगह पर एडॉल्फ हिटलर का जन्म हुआ उनके पिता का नाम एलन और माँ का नाम लारा को जल्द था और उसको हिटलर की मात्रा एलर्जी से प्लग की तीसरी पत्नी थीं और हिटलर अपनी माँ के चौथी सन्तान लेकिन इससे पहले उनके तीन भाई बहनों की किसी न किसी वजह से

बचपन में ही वृद्धि हो चुकी थी अब चुकी है खिलाड़ी एक मात्र जीवित बचे थे इसलिए वे अपनी माँ को बहुत चाहती थीं हिटलर का शुरुआती जीवन बहुत ही उथल पुथल रहा रोजीरोटी के चक्कर में उनके परिवार को बहुत सारे अलग अलग शहरों में भटकना पड़ा और पिता के साथ भी हिटलर के कुछ अच्छे संबंध नहीं थे टेलर ने अपनी स्कूल की पढ़ाई बोलकर चले स्कूल से की और बचपन में वे बड़े धार्मिक स्वभाव के व्यक्ति थे उन्हें चर्च के

तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी
तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी 

 Adolf Hitler Biography in Hindi 
ग्रुप के साथ प्रयोग करना बहुत पसंद था और की वजह से आगे चलकर वह एक पादरी बनना चाहते थे इंटर बचपन से ही जर्मन की राष्ट्रवादी सोच से काफी प्रभावित थे और इसलिए हस्तियों में रहने के बावजूद आस्ट्रेलिया की जगह पर जर्मन का राष्ट्रगान गाते थे आगे चलकर उन्नीस में हिटलर के पिता की मृत्यु हो गई और फिर अगले

कुछ सालों में उनकी माँ भी चल बसीं अप्रैल के पास कुछ भी नहीं बचा वह एक वक्त के खाने के लिए भी मोहताज हो गए थे अब पेट पालने के लिए हिल्स अपने लेबर का काम करना शुरू कर दिया कुछ दिनों तक उन्होंने पेंटिंग बनाई और पोस्टकार्ड भेजकर भी उन्होंने कुछ पैसे कमाए और दस लोग कहते हैं कि यही वह

समय था जब हिटलर के अंदर यहूदियों के प्रति नफरत पैदा हुए में हिटलर जर्मनी के शहर विकसित हो गए और वहाँ पर उन्होंने जर्मन आर्मी ज्वॉइन करने के लिए अप्लाई किया और फिर में उनका आपरेशन को एक्सेप्ट कर दिया है अब क्योंकि जर्मन राष्ट्र पहले से ही उन्हें पसंद थीं इसलिए उन्होंने जर्मनी के लिए युद्ध में भी बहुत ही

अच्छा काम किया और उनके परफॉर्मेंस को देखते हुए उन्हें कई तरह बोल्ड सीन हुआ लेकिन आगे चलकर पहले वर्ल्ड वॉर में जर्मन आदमी के शरीर करते उन्हें काफी दुख हुआ और इसके लिए उन्होंने जर्मन के नेताओं को जिम्मेदार ठहराया है आगे चलकर उन्नीस में हिटलरने लिए पीना आपकी पार्टी ज्वॉइन कर ली जो कि जर्मन वर्कर्स की पार्टी थी और इस पार्टी के लोग

                                                 Adolf Hitler Biography in Hindi       
तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी
तानाशाह अडोल्फ हिटलर Adolf Hitler Biography in Hindi | एडोल्फ़ हिटलर जीवनी 
 Adolf Hitler Biography in Hindi 

Post a comment

0 Comments