AUTHOR

मोहम्मद ज़हूर हाशमी का जीवन परिचय | Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi | मोहम्मद जहूर खय्याम की जीवनी


मोहम्मद ज़हूर हाशमी का जीवन परिचय Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi | मोहम्मद जहूर खय्याम की जीवनी

 Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi
मोहम्मद ज़हूर हाशमी का जीवन परिचय Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi | मोहम्मद जहूर खय्याम की जीवनी
मोहम्मद ज़हूर हाशमी का जीवन परिचय Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi | मोहम्मद जहूर खय्याम की जीवनी 

साल नंबर वन डे तो थ्री ये दास्तां है महान संगीतकार हम्म जरूर है कि आम हाश्मी की जिन्हें हम हरयाणवी साहब के नाम से जानते हैं इन आदतों में हथियार बिक्री मूल्य पत्रिकाएं जहाँ तक बदलाव किया आग्रह है आधारों में अनुभव होता आगे कहा बनाम मेहनत हुए थे कहाँ तक खेलना क्या बुरा है गजन हुआ अठारह फरवरी सन् उन्नीस सौ सत्ताईस राहु में ये पंजाब का एक इलाका है ये बात कोई नहीं जानता था कि नन ने दिखाया साहब के


एल सहगल के दीवाने हो जाएंगे इस चक्कर में फ़िल्म इंडस्ट्री का हिस्सा बनना चाहेंगे और उसके बाद एक छोटे से केलिए फौज का हिस्सा बनेंगे और द्वितीय विश्व युद्ध का हिस्सा बनेंगे हम साहब बचपन में ही महान अभिनेता और गायक केएल सहगल के दीवाने थे ये कोई नहीं जानता था कि दीवान की सर्विस तरह से चढ़ जाएगी ये अपना घर छोड़कर अपने चाचा जान के पास भागकर आ जाएंगे राहु से दिल्ली चले आए और जब इंतज़ार पूछा

 Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi
 Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi
 Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi

कि तुम अकेले क्यों आए हो तो उनके पास कोई जवाब नहीं था इस बात पे इन्हें एक थप्पड़ भी पड़ा खुशकिस्मती से दादी जान वहाँ मौजूद थी इसलिए खयाल से आपको बचा लिया गया जब उन्होंने बताया कि मैं तो दरअसल खेल साइकिल बनना चाहता हूँ तब इनकी संगीत की शिक्षा शुरू हुई इनके साथ रहे पंडित अमरनाथ और पंडित जगन्नाथ की तुलना में कहीं भी दुनिया कि वह दिल्ली में मैं तुम्हें अपने व्यापारिक आनी कहा नहीं खाया साहब


फिल्मों में काम करना चाहते थे बतौर अभिनेता स्क्रीन पर नजर आना चाहते थे इसी सिलसिले में ये पहुँच गया था और उस जमाने में लाहौर में बहुत से मैं बनाई जाती थी जब भाषण की मुलाकात हुई उस जमाने के मशहूर मारो संगीतकार बाबा चिश्ती से किसी बाबा की म्युजिक रूम में पहुंचे और देखा कि सस्ती बाबा पियानो बैठकर संगीत बना रहे हैं बहुत से इसके टुकडे उन्होंने बनाएँ और उसके बाद अपने सचिंद्र पटेल से पूछा अरे भाई


टुकड़ा कौनसा था मैं भूल गया हूँ ज़रा याद दिलाओ सभी ने कहा कि आपने इतने सारे टुकड़े बनाएँ हमें याद नहीं उसी कमरे में कोने में खड़े थे नौ अंखिया उन्होंने कहा यदि आप कोई ऐतराज न हो तो मैं बताता हूँ टुकड़ा कौनसा था पहले तो उन्हें डांट पड़ी पिछली बाबा ने कहा कि कौन हो तुम कैसे बगैर इजाजत हमारे कमरे में चले आए उन्होंने कहा कि आपके दीदार करते थे इसलिए यहाँ आया हूँ कितना बड़ा टुकड़ा कौनसा था उन्होंने टुकड़ा

 Mohammed Zahur Khayyam Biography in Hindi

भी बताया और उस म्यूजिकल फ्रिज की सरगम भी बना के दी चुनौती बाबा इनके काम से बड़े मुतासिर हुए खयाल से आपने अच्छा है कि ये फिल्मों में बतौर एक्टर काम करना चाहते हैं मैने कहा वो भी हो जाएगा लेकिन उससे पहले मेरे साथ बतौर असिस्टेंट काम करना शुरु करो ऐसा बताया गया कि खयाल से अब तक मात्र सत्रह वर्ष के करीब थे जिसे बाबा के साथ उन्होंने कुछ काम किया और फिर ये लुधियाना चले जाए

Post a comment

0 Comments