AUTHOR

irfan ali biography in hindi | इरफान खान सम्पूर्ण जीवनी I इरफ़ान ख़ान जीवनी

irfan ali biography in hindi | इरफान खान सम्पूर्ण जीवनी I इरफ़ान ख़ान जीवनी

irfan ali biography in hindi | इरफान खान सम्पूर्ण जीवनी I इरफ़ान ख़ान जीवनी
irfan ali biography in hindi | इरफान खान सम्पूर्ण जीवनी I इरफ़ान ख़ान जीवनी
irfan ali biography in hindi
रास्ता है एक बड़ा ही ज़बरदस्त अभिनेता की नाम हैं जिनका साहबजादे इरफान अली खां जिन्हें फ़िल्म इंडस्ट्री इरफान ख़ान या सिर्फ इरफान के नाम से ही जानती है यहाँ से है जग कब आया तू अरे देख यार देख यार चल ले लें आठ दस रुपए किलो था वो मगर नवाचारों जाके मेरे को परेशान करता है अलग कुमार गोलिया ये बता अरे हाँ वो तीन लोग भी ग्रहण करने आते हैं वो क्या कह रहे थे वो गोरी गल हम लोग ये अरे अबे यार मैने उनको बोला

पर अभी क्या मेरे को भी जरूरत नहीं कोई पूछे घोड़े की नाल की बनी मालूम नहीं एड्रेस देने का कोई फालतू में टीवी देखना पड़ेगा इरफान ख़ान का जन्म हुआ था सात जनवरी सन् उन्नीस सौ सड़सठ में इरफान ख़ान का जन्म राजस्थान के जयपुर शहर में हुआ परिवार एक पठान परिवार मात्रा में व्यवधान जो कि राजस्थान के टोंक इलाके के फॅमिली से ताल्लुक रखती रहेंगी इनके पिता स्वर्गीय जागीरदार था डांग जिले के नज़दीक खजुरिया गांव से

 इरफ़ान ख़ान जीवनी
irfan ali biography in hindi | इरफान खान सम्पूर्ण जीवनी I इरफ़ान ख़ान जीवनी
irfan ali biography in hindi | इरफान खान सम्पूर्ण जीवनी I इरफ़ान ख़ान जीवनी
irfan ali biography in hindi 
ताल्लुक रखते थे इनके वालिद का टायर बिज़नेस हुआ करता था स्थान खाँन मात्र सोलह वर्ष के रहे थे कि नसीरुद्दीन शाह की ऐक्टिंग लाइन पर गहरा असर रहा कम जुनून में उन्होंने राजेश विवेक नाम से बड़े ही बेहतरीन अकादमी ने देखा और यह हैरान रहता है तब जयपुर में एक लोकल ट्रेन रात रहे और हम साहब जिन्होंने कहा कि इरफान सुना कभी नहीं करना चाहते हैं तलाश में प्रोग्राम जाना पड़ेगा भगवान की बात कही कि


 बड़े बड़े अभिनेता पहली क्या तीसरी बार तक भी मैच स्कूल ऑफ ड्रामा का एग्जाम पास न कर पाए जैसे मनोज बाजपाई परेशान खानने पहले बाहर नहीं ना स्कूल ऑफ ड्रामा का इम्तेहान पास किया उन्हें स्कॉलरशिप मिली फिर भी बहुत सारे थे एन एस प्रोग्राम एडमिशन हो ना मेरा एक टूर्नामेंट में मेरा सलेक्शन हुआ था राजस्थान के वो भी मुझे लगा था मेरे जीते हैं स्मृति में आना अलग अलग फिल्मों मिलना पान सिंह तोमर का भरपूर होना फ़िल्म

irfan ali biography in hindi 

करना हासिल कर बहुत सारे है हालांकि इससे पहले वो एमए की पढ़ाई कर रहे थे ये साल रहा सन ईमान खाँन बतौर अभिनेता तो सबको पसंद आ रहे थे लेकिन उन्हें अभिनय इतना पर नहीं आ रहा था खासतौर पे टेलीविज़न पे हालांकि मेरा नाम की फ़िल्म सलाम बॉम्बे में उन्होंने छोटा सा किरदार निभाया था अब फिर बड़ी मजबूत हुई थी चंद्रकांता जैसे सीरियल में इरफान ख़ान नजर आए थे पर फिर भी खाने को मज़ा आ रहा था जिसके लिए


इन्होंने अभिनय को चुना था पर अब तक किसी को अंदाजा नहीं था कि अभिनेता एक दिन देश का ही नहीं विदेशों का विस्तार बनकर दिखाएगा उन्होंने मुझे अपनी टीम को कुछ करने के लिए बुलाया

Post a comment

0 Comments