AUTHOR

बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की अनसुनी कहानी | Nawab Siraj Dulla History |Siraj ud-Daulah Biography Life History

 बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की अनसुनी कहानी | Nawab Siraj Dulla History | Siraj ud-Daulah Biography  Life History

बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की अनसुनी कहानी | Nawab Siraj Dulla History |Siraj ud-Daulah Biography  Life History
बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की अनसुनी कहानी | Nawab Siraj Dulla History |Siraj ud-Daulah Biography  Life History

भारत के इतिहास की भयंकर युद्ध नवाब सिराजुद्दौला से जुड़े कुछ अनसुने तथ्यों के बारे में बताने जा रहा था साथ ही इतना आज के इस दिन करियर का भी वर्णन करूँगा तो चलिए आज कल लोग शांत बंगाल का इतिहास बदलने वाले प्लास्टिक के युद्ध के बारे में कम लोग ही जानते हैं इस युग में तनक हार के बाद नवाब सिराजुद्दौला


आजाद बंगाल के अंतिम और उनके परिवार के किसी भी सदस्य की महज रहस्य बनकर रह गई है क्या हमने कभी सोचा है कि उनका परिवार जिंदा बच पाया था या नहीं क्या सिराज केवल वंशज इस युद्ध के साथ ही खत्म हो गयी यह कुछ ऐसे सवाल हैं जिन पर चर्चा जरूरी है तो आगे बात करते हैं बंगाल के सिराजुद्दौला को उनके

परिवार के अनसुने इतिहास के बारे में मेरा मदन मोहन लाल और खाद्य के भरोसे मनसेनना पत्तियों में से एक थे जो प्लासी के युद्ध के ठीक पहले मिर्जा को बुलाए जाने के कारण नाराज थे इसका परिणाम यह हुआ कि मोहन लाल को छोड़कर बाकी की सेनापतियों ने युद्ध में विश्वासघात किया और सिराजुद्दौला युद्ध हार गए उन्हें बंधक

 Siraj ud-Daulah Biography  Life History
बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की अनसुनी कहानी | Nawab Siraj Dulla History |Siraj ud-Daulah Biography  Life History
बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की अनसुनी कहानी | Nawab Siraj Dulla History |Siraj ud-Daulah Biography  Life History

तक बना पढ़ा था किस्मत से सेना पति मोहन लाल इस भीषण युद्ध में भी अपनी जान बचाने में कामयाब रहे वे स्थापित ई में मोहल्ला के कुछ समय कश्मीर में बिताया व्यक्तिगत जीवन में मोहन लाल साम्प्रदायिकता से ऊपर और बहुत वफादार थे नवाब के वफादार सेनापति होने के तौर पर उन्होंने प्लासी की लड़ाई लड़ी लेकिन इतिहास के बहुत कम पन्नों में इसका जिक्र किया गया मधाबी मोहन लाल की बहन थीं जिसे हीरा के नाम से भी जाना


जाता था नवाब सिराज और हीरा के अवैध यौन संबंध होने के कारण ही रानी सिराज के नाजायज पुत्र को जन्म दिया अलीवर्दी खां जोशी उसके पिता थे उन्हें इस बात को की भनक भी नहीं थी पिता की नाराजगी से बचने के लिए सिराज अपने बच्चे को छुपा देते थे पर यह बात अलीवर्दी को पता चल ही गयी उन्होंने अपने बेटे की अजय


Siraj ud-Daulah Biography  Life History

 संतान को एक घोड़े पर बैठा रस्सी से बांध दिया उन्होंने सोचा था कि जो भी घोड़े को पकड़ेगा वह बच्चे की जिम्मेदारी संभालेगा इस जिम्मेदारी से बचने के चलते सिराज ने अपने पुत्र को उसकी किस्मत के हाथों में छोड़ दिया इस अमानवीय घटना की जानकारी जैसे ही मोहल्ला तक पहुंची वे अपने घोड़े के साथ बच्चे की जान बचाने निकल पड़ा और फिर बच्चे को अपने साथ ले आया मोहल्ला

 Nawab Siraj Dulla History

Post a comment

0 Comments