AUTHOR

Sunny Deol Biography in hindi सनी देओल बायोग्राफी

Sunny Deol Biography in hindi 

Sunny Deol Biography in hindi सनी देओल बायोग्राफी
Sunny Deol Biography in hindi सनी देओल बायोग्राफी

सनी देओल बायोग्राफी


स्प्ब गाडी जयसिंह है और जिसे प्यार से हम कहते है शनिदेव एवं युवाओं हीरो जिसका डाइक्लो कहा था कि जब पड़ता हैं तो आदमी उठता नहीं उठ ज्यादा है शनिदेव दरअसल रोमांस एक्शन हीरो की कैटेगरी में आते हैं रोमांस राहु या परीक्षण दोनों में ही उन्होंने महारत हासिल की शालू याले था यूं आ चार सनी देओल को सुबह ज्यादा पसंद है और बचपन से ही यही देखा कि रात सोने के लिए होती है इसलिए कभी पार्टी वगैरह में ज्यादा शनिदेव नजर नहीं आते अरे ये आज कल रात की पारी में कमाल कर दिया ऐसे रोने लाइफ शेयर की साड़ी



लडकियां तुझ पर मर गए बचपन से ही शनि स्पोर्ट्स में बहुत आगे थे स्कूल के हर एक टीम में इनका सेलेक्शन होता था और स्पोर्ट्स में आगे नहीं जा पाए की घर खुलके इजाजत नहीं थी और उसके बाद शनिदेव ने मन बनाया कि वह भी अपने पिता की तरह एक्टर ही बनेंगे बच्चों की बचपन से ही शनि भाषण मिले थे तो धर्मेंद्र साहब ने सोचा क्यों न इस लड़के को एक्टिंग की ट्रेनिंग दिलवाई है और इसलिए भेजा गया इन्हें लंदन के भूमिगत फिर स्कूल गए लंदन में शनिदेव के व्यक्तित्व ज्यादा खुला वहाँ पर अजब गजब शौक भी हुए पर सनी देओल ने मन बना लिया इस सिगरेट और शराब इन दोनों से हमेशा के लिए दूर रहेंगे अनाज उठा देना क्यों अरे मौजूदा

Sunny Deol Biography in hindi 


देना लंदन में अपनी ट्रेनिंग पूरी की और उसके बाद पिता धर्मेन्द्र का फ़ोन आया कि बेटा शनि वापस आ जाओ बेटा तुम्हारा इंतज़ार कर रही है सन् ई में बेताब फ़िल्म के साथ शनिदेव की शुरुआत की स्पेन की कैरोलिन रही अमृता से कॉल करके अपनी सनी देओल उन एक्ट्रेस में रहे जिन्होंने इस बात से गुरेज नहीं किया किशोर प्लेस दुनिया के सामने आए इनका फिर जीत हमेशा उनका साथ देता हॉलीवुड के मशहूर राष्ट्र सर्वश्रेष्ठ कारण से यहाँ से प्रेरित थे और उन्हें मिसाल मान कर शनिदेव ने अपनी पार्टी में काम किया सर्वश्रेष्ठ उनके जिम्मे ही नेवर देश की ओर बढ़ा हुआ शरीर बनाया तू बस संचालकों की सत्यता की जांच करते हुए मैं देखना चाहूंगा शनिदेव अनुरोध से है जो पंचम देखो तो लगता है कि वाकई पंच लगा है फ़िल्म तथा बड़ी सफल हुई और उसके बाद कुछ बरस शनिदेव के लिए ठीक नहीं थे अपनी राइफल अर्जुन जिसने कमाल कर दिया शनिदेव आलेख 

Post a comment

0 Comments