AUTHOR

Chiranjeevi biography in hindi

 Chiranjeevi biography in hindi  चिरंजीवी की जीवनी हिंदी में

ये कहानी है कोनिदेला सेवा संकरा वारा प्रसाद की जिनका जन्म हुआ बाईस अगस्त सन् उन्नीस सौ पचपन में जिन्हें हम चिरंजीवी के नाम से जानते हैं मेगास्टार चिरंजीवी  उनके चाहने वाले है चिरो नाम से भी पकाते है जो जीस आपके पिता एक कांस्टेबल थे और उनका अक्सर तबादला हो जाया करो था उन्होंने अपना बचपन अपने ग्रैंड पेरेंट्स के साथ बिताया ओये बड़े वाले का है यह आप कहाँ चले गए थे एक चक्र के लिए रिपोर्ट में ढूँढ रहा था मुझे दी थी ना भूल गये भूल गया था चरचे बाकी लोग से पहले चलो इनकी पढ़ाई लिखाई हुई निदा बोलू गोरा जला बापात्ला पुन रूप मंगलगिरी और मुगलपुर में स्कूल के दिनों में ही एनसीसी कैडेट बन गए थे और ऐसा

 Chiranjeevi biography in hindi 
चिरंजीवी की जीवनी हिंदी में
चिरंजीवी की जीवनी हिंदी में

 बताये था कि छब्बीस जनवरी सन उन्नीस सौ छिहत्तर में ये आन्ध्रप्रदेश के रिपब्लिक डे परेड आले का हिस्सा थे उन्होंने नरसापुर के श्री वा एन कॉलेज से कॉमर्स में डिग्री ली उसके बाद ये चेन्नई चले गए जहाँ पर मद्रास फ़िल्म इंस्टीट्यूट से उन्होंने विधि बाद अभिनय का प्रशिक्षण लिया ये क्या माली ढोल मेरी आँखों में गिरी है आशु आपकी आँखों में एक ऐसा बताया गया कि उनका परिवार अंजनी की पूजा की करता रहा लिहाजा उनका नाम उसी देवता रखा गया चिरंजीवी जमीन भी सामने कुछ छोटे केदार भी ज़रूरी है भाई लेकिन बतौर हीरो नज़र आई

 Chiranjeevi biography in hindi

फ़िल्म इंटलो रामय्या दीदी लोग कृष्णाईयाह में यह फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कमाल कर गयी तेरी नज़र आए फ़िल्म सुबह लिखा नहीं जैसे महान डायरेक्टर के विश्वनाथ ने दर्ज किया था इन तेलुगु फ़िल्म फेयर अवार्ड बेस्ट एक्टर से नवाजा गया ये क्या है रोनाल्डो बूंदी का लड्डू है लेकिन दिखाई नहीं दे रहा था अब देखिये अधिकता है ना आज का घाटा खा लीजिये ऐसा भी बताया गया कि शुरुआती दौर की फ़िल्म रही पुनाधिरल्लू जहाँ से उन्होंने आगाज किया था अपनी अभिनय यात्रा का जहाँ मेरा कोई लेना देना नहीं वह मेरा काम जो मैं चलता हूँ ये बात

चिरंजीवी की जीवनी हिंदी में


गौर करने लायक है जिन्होंने एंटी हीरो का काम भी किया था फ़िल्म आई लव यू में और एक बड़ी बेहतरीन फ़िल्म आई के बालाचंदर शाह की दिक्कत था काडू उन्होंने इरानी बेटी की जिंदगी में खुशियां लाने के लिए ही चुनौतियों को उनकी हाँ उसकी सजा माँ ने काटी और आज तो इसे ही मारने की कोशीश कर रहा है कि महिलाएं अपने प्रणाम खरीदू माना बोरी बंधान ब्लू जैसी फिल्मों से

Post a comment

0 Comments