AUTHOR

Dilip kumar biography in hindi

Dilip kumar biography in hindi

dilip kumar biography in hindi
dilip kumar biography in hindi

Dilip kumar biography in hindi

दादासाहेब फाल्के अवॉर्ड के विजेता हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री की राजनीति के लेजेंड्री दिलीप कुमार दिलीप कुमार का जन्म ग्यारह दिसम्बर सन् में हुआ था और उनका यूसुफ रखा गया था दिलीप कुमार ने जब फिल्मों में एंट्री ली तो उनका नाम यूसुफ ख़ान से बदल कर दिलीपकुमार रख दिया और इनाम रखा था वह मेडॉक्स की ओर न देविका रानी ने दिलीप कुमार से उनके पिता लाला ग़ुलाम सरवर एक प्रूफ मंचन थे और उनका परिवार पेशावर छोड़कर बम्बई में बच गया सन् ई में दिलीप कुमार मुंबई छोड़ पुणे चले गए  ये दिल की रानी नहीं दिलीप कुमार को फ़िल्म ज्वार भाटा में पहला ब्रेक दिलाया कि फ़िल्म सन में आई थी दिलीप कुमार की पहली फ़िल्म ज्वार


भाटा बॉक्स ऑफिस पर कोई रंग नहीं दिखा पाई लेकिन संधु तो सैंतालीस में आई फ़िल्म जुगनू ने दिलीप कुमार का नाम चमका दिया फ़िल्म जुगनू के बाद दिलीप कुमार साहब की डायलॉग डिलीवरी उनका संजीदा अंदाज लोगों को बहुत पसंद आने लगा बजाय होते हैं वो लोग नाजायज काम करते है अच्छा बात करके वर्तमान करना चाहिए सोचते है जहाँ ये बच्चे सिस्टम पर बैठेंगे जिसकी लोगों में हमारा खून सनी उसमें फ़िल्म मेला में नर्गिस और राजकपूर के साथ अंदाज उन्नीस सौ अट्ठावन में जरूरी और बिमल रॉय की देवदास ने दिलीप कुमार को फ़िल्म इंडस्ट्री का ट्रैजेडी किंग बना दिया और तब दिलीप कुमार साहू कुछ हल्के फुल्के किरदार निभाए जैसे


dilip kumar biography in hindi


फ़िल्म कोहिनूर और उसके बाद राम और श्याम हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री की सबसे सेलिब्रिटी फ़िल्म मुगले आजम में दिलीप साहब ने सलीम का किरदार बखूबी निभाया और उनकी मधु के साथ और स्क्रीन केमिस्ट्री दुनिया का दिल जीत गई मशहूर अभिनेत्री मधुबाला से अलग हो जाने के बाद दिलीप कुमार साहब ने फ़िल्म पर बहुत ध्यान दिया और उन्होंने चवालीस साल की उम्र तक शादी नहीं की ये उम्र जब उनके जीवन में आई बाईस साल की शायरा बानो दिलीप सात के एक्टिंग करियर में अगर हम ध्यान से देखें तो उनके ऊपर तलत महमूद की आवाज़ बहुत सूट करती थी यहाँ तक कहा जाता है कि मुकेश की आवाज भी दिलीप कुमार के लिए ही बनी थी लेकिन


dilip kumar biography in hindi

बाद में जाकर शंकर जयकिशन ने मुकेश की आवाज राजकपूर के लिए यूज़ करनी शुरू की और तब रफ़ी साहब बने दिलीप कुमार की ऑनस्क्रीन आवाज़ फ़िल्मों का दौर बदल रहा था रोमेंटिक हीरो में राजेश खन्ना बॉक्स ऑफिस पर राज़ कर रहे थे लेकिन दिलीप कुमार का दबदबा तब भी बरकरार रहा एंग्री यंग मैन अमिताभ बच्चन भी दिलीप कुमार का स्टेटस नहीं है लाभाय फ़िल्म शक्ति उसका

Post a comment

0 Comments