AUTHOR

Shahrukh khan biography in hindi शाहरूख खान जीवनी

Shahrukh khan biography in hindi शाहरूख खान जीवनी 

और वहाँ पे पढ़ाई करते रहे शाहरुख पढ़ाई में ठीक ठाक थे स्पोर्ट्स में इनका कोई मुकाबला नहीं था सन् उन्नीस सौ पचासी अट्ठासी के बैच में ये पहुँचे असली के हंसराज कॉलेज में जहाँ पर एकनॉमीक्स में उन्होंने अपनी बैचलर्स डिग्री यह स्वास्थ्य अपना अधिकतर समय दिल्ली के थे राशिद रूप जाने की ताक में बताया करते थे ,स्वास्थ इनके फेवरेट एक्टर थे जॉन हंसराज कॉलेज में ,उन्होंने हॉकी भी हूँ खेली और ग्रेजुएशन के बाद ये पहुँच गए जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी जहाँ पे ये मास कम्युनिकेशन का कोर्स कर रहे थे पर इस बीच ,उन्होंने कुल छोड़ दिया और एक्टिंग की तरफ बढ़ गए बजे आया भी ये बात गौर करने लायक है कि बचपन में शाहरुख अक्सर नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के अवसर से पहुँच जाया करते थे क्योंकि इनके वाले एनजीओ में



बता और वेंडर ताल्लुक रखते थे चारों का बचपन भी अधिक गुजरा इनके बालक की मृत्यु हो गई संत उन्नीस में उन्हें कैंसर ले गया असल में उनकी कमी गुजर गयी और उसके बाद उनकी बड़ी बहन शहनाज लालारुख गहरे डिप्रेशन में चली गयी शाहरुख को यह बात जरूर सताती रही कि उनकी सफलता उनके माँ बाप ने नहीं देखी अच्छी चीजे होती रहेंगी अब भी दुआ करो मैं भी अपने दुआ करता हूँ कि आप के लिए हर चीज़ अच्छी है वैसे शाहरुख़ ख़ान का सरदारा या टीवी सीरियल दिल दरिया में लेखन साहब ने सीरियल बनाया था उसी दौरान

 शाहरूख खान जीवनी 
Shahrukh khan biography in hindi शाहरूख खान जीवनी
Shahrukh khan biography in hindi शाहरूख खान जीवनी 
Shahrukh khan biography in hindi शाहरूख खान जीवनी 

करण कपूर का भी सीरियल आया फौजी जिसमें उन्होंने अभिमन्यु राय का किरदार निभाया था टेलीविजन पर आते ही पता चल गया था ये कचरा अनोखा है शुरुआत बहुत खूबसूरत है और उसके बाद कई टेलीविजन सीरियल्स में शाहरुख ख़ान नजर आए चाहे वो वागले की दुनिया रही हो या फिर सर्कस और दूसरा केवल आज तक कोई नहीं भूल पाया बाद और मेहनत करेंगे बेहतर जाये उसके बाद हेमा मालिनी का पूर्ण के पास पहुंचा जो कि उस वक्त फ़िल्म दिल आशना है बना रही थी जिसमें उनकी हीरोइन नहीं दिव्या भारती चारों को पहले तो यकीन नहीं हुआ और फिर जब फ़िल्म में काम किया तो बड़ा मज़ा आया दिल आशना है दिल दीवाना राजू बन गया जेंटलमैन तीनों ही फ़िल्में साबित कर चुकी थी कि बतौर रोमेंटिक स्टार को यह कमाल है रेन का बिज़नेस भी अपडेट एन्जॉय करता एक मोबाइल सलाह पाई स्कूल में सर्वश्रेष्ठ बैंकिंग और उसके बाद बाजी करायी जिसमें शाहरुख खानने हीरो की भूमिका छोड़ विलेन की भूमिका निभाई हीरो की भूमिका हार के विलेन की भूमिका जीत और बने ये सबसे बड़े बाधक हैं

Post a comment

0 Comments